The Vaccine War

As the COVID-19 pandemic rages on, Dr Bhargava, the director general of Indian Council of Medical Research, assembles a crack team of India’s most brilliant minds, including Dr Nivedita Gupta, Dr Priya Abraham and Dr Pragya Yadav. Together they mount a mission to save humanity from the unseen enemy. The challenges they face are daunting. They must navigate the treacherous waters of international diplomacy and deal with excessive bureaucratic control. Often enough, they find themselves battling against time and misinformation fuelled by fake news. Along the way, they are forced into moral dilemmas to make life-ordeath decisions that affect the nation and its people. As they work tirelessly to develop and distribute a vaccine against the deadly coronavirus that threatened to ravage India, they face opposition from foreign interests and intense scrutiny from the media. The Vaccine War is an inspiring tale of scientific ingenuity, perseverance and the triumph of the human spirit. It celebrates the heroes who fought relentlessly behind the scenes to protect their nation and offers a poignant reminder that unity and science can overcome even the most formidable challenges.

This Is Sanatan Dharma

We speak often of the Hindu religion, of the Sanatan Dharma, but few of us really know what that religion is…This is the Dharma that for the salvation of humanity was cherished in the seclusion of this peninsula from of old. It is to give this religion that India is rising. She does not rise as other countries do, for self or when she is strong, to trample on the weak. She is rising to shed the eternal light entrusted to her over the world. India has always existed for humanity and not for herself and it is for humanity and not for herself that she must be great. 

 

These are the words of Maharishi Sri Aurobindo. But what is this Sanatan Dharma? Is it just the religion and rituals that Hindus follow or is it really the secret of life and consciousness that is embedded in the very fabric of our cosmic existence? This book reveals, layer by layer, the subtler spiritual dimensions of Sanatan Dharma, and its timeless relevance to human existence and civilization.

Varna, Jati, Caste: A Primer on Indian Social Structures

A Primer on Indian Social Structures Caste is being used as a major weapon to shame Hindus. This crisp and easy primer presents a powerful counter to Western Universalism’s harsh attacks on caste. It is a long over-due toolkit to help all open-minded people gain an understanding of the subtleties of Hinduism’s complex social order. This social structure has, after all, produced a civilization with unparalleled diversity. The Vedic world view along with the historical journey of Varna and Jati demolishes the prevailing myths about caste.

Veda Made Simple

Veda Made Simple is an important book. In a strikingly clear, lucid and straightforward manner, the author reveals the rich and complex philosophy and symbolism of the Veda for anyone who is open in mind and heart to receive the wisdom of humanity’s oldest spiritual scripture. That the author does this in the light of Sri Aurobindo—inarguably among the very few who realized and lived the deepest and highest Vedic truths in their beings—makes it even more significant. This book comes at the right time too, as Indians globally begin to reawaken to their timeless Vedic and Sanatan heritage.

Waiting for Shiva

Few places in the world carry the heavy burden of history as effortlessly as Kashi, or Varanasi, has. The holy city embodies the very soul of our civilization and personifies the resilience that we have displayed over centuries in the face of numerous adversities and fatal attacks.

 

Waiting for Shiva: Unearthing the Truth of Kashi’s Gyan Vapi recreates the history, antiquity and sanctity of Kashi as the abode of Bhagwan Shiva in the form of Vishweshwara, or Vishwanath. Shiva himself assured his devotees of salvation if they leave their mortal coils in the city. The book delves into the history of this self-manifested swayambhu jyotirlinga shrine of Vishweshwara, which for centuries has been both a refuge for the devout and a target of the bloodiest waves of iconoclasm. However, each time an attempt was made to obliterate the temple by demolishing it, it managed to rise and prosper. Every iconoclastic storm was followed by an episode of persistence, tenacity and stubborn resolve. Shrines fell and shrines rose, but the Hindus of Kashi never gave up—not even once.

 

Waiting for Shiva documents these cataclysmic events in the temple’s history. The final death blow was dealt in 1669 by the Mughal despot Aurangzeb, who demolished the temple and erected few domes on the partially destroyed western wall to call it a mosque. The temple complex was desecrated and left strewn with ruins as a grim reminder of the humiliation and insult that Hindus had to face as a consequence of their holiest shrine being torn down to smithereens. The area that is now called the Gyan Vapi mosque and the surrounding land that lies adjacent to the new temple of Vishwanath, which came up towards the end of the 18th Century, has always been one of intense contestation. Bloody riots overran Varanasi over this issue multiple times in the past. During the colonial era, the doors of the British courts were knocked at to settle the occupancy issue, and they adjudicated the matter several times. Post-Independence, too, the desire to ‘liberate’ the complex has been seething in the Hindu imagination. A new suit filed in 2021 before the Varanasi civil court reopened a long-festering historical wound. Despite several appeals right up to the Supreme Court to dismiss the plaint, a survey by the Archaeological Survey of India (ASI) was ordered, which would lay bare the truth in its findings by the end of 2023.

 

Vikram Sampath’s latest offering retraces the long history of this bitterly disputed site and the dramatic twists and turns in the checkered past of this hoary shrine. Piecing together numerous documents and accounts—Vedic and Puranic texts, Sanskrit literary sources, Agama shastras, Jataka tales, Persian accounts, travelogues of foreigners, archival records and copious legal documents detailing the contestation from the British era to modern Indian courts—the book recreates, for the first time with facts and cogent arguments, this stormy history right up to the present times. The long-suppressed secrets that lay hidden in Gyan Vapi finally finds a voice through this book.

War Despatches 1971

This book is a lucid retelling of the triumphs, the many horrors, the challenges, and the many battles the soldiers fought and won within and outside, to put India first. A young officer who was taken prisoner, a Naval captain who left home days before his wedding, the fond memory of a martyred Lance Naik who threw himself before the enemy to help win a bigger battle, and so on. Fifty years later, Brig. B. S. Mehta brings together accounts from 29 brave Indian soldiers of the Eastern and Western Sector on what it meant to be young and in the line of fire.

Whispers of the Unseen

Whispers of the Unseen: The Quest for Sixty-Four Yoginis redefines spirituality beyond conventional religious norms, rituals and practices. It attempts to forge a connection with the essence of life forms and take the reader through a spiritual exploration of the dynamic interplay and union of masculine and feminine energies. Through her paintings, the artistauthor revisits the cultural significance, richness and symbolism of the sixty-four yoginis. The narrative delves deep into the realm of feminine power, drawing out the most pivotal manifestation of its expressive roles in our lives and integrating the practices of spirituality into our everyday existence. It prods the reader to relish life’s simple moments and to cherish the intersectionality of quotidian life. This will, according to her, allow them access to ancient spiritual practices in contemporary time, leading to increased awareness and mindfulness in daily life. It encourages readers to embrace connecting with the divine, tapping into a higher power and uncovering the creative force within.

भारत के जनजातीय क्रान्तिवीर

भारतवर्ष को दासता के चंगुल से मुक्त कराने व स्वराज की स्थापना करने के लिए देश के असंख्य वीर सेनानियों व क्रांतिकारियों ने अपना जीवन भारत माता के चरणों में समर्पित किया है। किन्तु दुर्भाग्यवश, उनमें से बहुतसे योद्धा ऐसे हैं, जिन्हें मानक इतिहास पुस्तकों में किसी कारणवश उनका यथोचित नहीं मिल सका। यह बात देश के विभिन्न जनजातीय समुदायों से आने वाले क्रांतिवीरों के योगदान के विषय में और भी सटीकता से लागू होती है।

 

यह पुस्तक ऐसे ह जनजातीय क्रांतिवीरों की अल्पज्ञात अमरगाथाओं का यशोगान कर उन्हें जनसामान्य के समक्ष रखने एक छोटासा प्रयास है। अदम्य साहस, अतुलनीय शौर्य व अटूट स्वाभिमान से भर ये कथाएँ न केवल ज्ञानवर्द्धक हैं, अपितु सभी देशवासियों के लिए महान् प्रेरणास्रोत भी हैं।

मोदी का बनारस

मोदी का बनारस -यह सिर्फ़ पुस्तक नहीं यात्रा है। गंगा यहाँ की जीवनरेखा है। गंगा, बाबा विश्वनाथ के बिना इस नगरी की कल्पना अधूरी है। नरेन्द्र मोदी का बनारस से चुनाव लड़ना राजनीति की असाधारण घटना है। बनारस का सामर्थ्य, कर्तव्य को पूरी दुनिया ने देखा है। अगर सोच लिया जाए, ठान लिया जाए, तो कुछ भी असंभव नहीं है। नरेन्द्र मोदी ने बनारस में अपने तप से चुनाव तो जीता ही, साथ ही बनारस में अपने ख़िलाफ़ की जाने वाले दूसरी पार्टी नेताओं की साज़िशो को भी विफल कर दिया। देखते ही देखते मोदी ने अपने जीत का परचम बिहार, झारखंड, बंगाल तक फहरा दिया। मोदी की जीत एवं बनारस को लेकर लिए गए फ़ैसलों की कहानी है यह पुस्तक, जिसे हमेशा याद रखा जाएगा। यह पुस्तक आपको यह भी बताएगी कि बनारस से जीत की पटकथा कैसे लिखी गई, उसकी रूपरेखा किसने तैयार की थी। अमित शाह ने वर्ष 2010 में बनारस में क्या संकल्प लिया था। जिसे पूरा करने के लिए उन्होंने ना दिन देखा ना रात। यूपी और बनारस का चुनाव जीतने के लिए अमित शाह ने राजनाथ सिंह से ऐसा क्या वचन लिया था, जिसे लेकर सबके बीच में उन्होंने कह दिया कि मैं होता तो यह वचन कभी नहीं देता। नरेंद्र मोदी ने कोविड काल के समय को ही बाबा विश्वनाथ मंदिर के कायाकल्प के लिए क्यों चुना। क्या आप को पता है कि बाबा विश्वनाथ मंदिर के लिए जमीन एकत्र करने के क्रम में जमीनों की सभी रजिस्ट्री एक विशेष समय में की गई थी। आखिर क्यों? क्या आप यह जानते हैं कि बनारस के विश्वनाथ मंदिर में कितना सोना लगा है? एक आश्रम का तिलिस्म जिसकी जमीन को खाली करवाने में एक साल लग गया। आखिर कैसे खाली हुई वह जमीन। कैसे पीएम मोदी ने आर्किटेक्ट के पहले बने नक्शे को खारिज कर दिया था। क्योटो में ऐसा क्या है जो उसे बनारस से जोड़ देता है। मोदी ने जापान के शहर क्योटो को ही क्यों चुना? बनारस का ऐसा घाट जहां पर आप हेलीकॉप्टर से पहुंच सकते हैं। फ़्रांस के राष्ट्रपति ने बनारस में ऐसा क्या पूछ लिया, जिसकी पूरी दुनिया में चर्चा होने लगी। इन सब सवालों और जिज्ञासाओं का उत्तर आप को इस पुस्तक मोदी के बनारस में ही मिलेगा।

हिन्दू राष्ट्र: हिन्दुओं की रामकहानी

जो यह दावा करते हैं कि हम एक अधिनायकवादी हिंदू राष्ट्र में रह रहे हैं उनसे यह पूछा जाना चाहिए कि यह किस प्रकार का हिंदू राष्ट्र है जहां एक अरब शक्तिशाली हिंदू यहाँ की संसद, अदालतों, शिक्षा व्यवस्था और हमारे संविधान द्वारा न सिर्फ दोयम दर्जे के नागरिक करार दिए गए हैं बल्कि उससे भी नीचे धकेल दिए गए? यह कैसा हिंदू राष्ट्र है जिसमें दुर्गा पूजा और गरबा के आयोजनों पर बेरोकटोक पत्थरबाजी की जाती है और प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बैठा एक शख्स कहता है कि इस देश के संसाधनों पर पहला हक अल्पसंख्यकों का है? यह कैसा हिंदू राष्ट्र है जहाँ हिंदुओं को अपनी ही धरती पर शरणार्थियों की तरह रहना पड़ता है और जहाँ कोई 40 हजार रोहिंग्या मुसलमानों को तो बसा सकता है लेकिन इसी देश के धरतीपुत्र 7 लाख कश्मीरी पंडितों को नहीं और जहाँ अदालतों का कहना हैं कि हिंदुओं की हत्या, बलात्कार और जातीय संहार करने वालों पर मुकदमा चलाने के लिए अब बहुत देर हो चुकी है? यह किस तरह का हिंदू राष्ट्र है जहाँ हिंदुओं के मंदिर सरकारों के कब्जे में हैं और अपने त्यौहार मनाने के लिए हिंदुओं को वक्फ बोर्ड के सामने जमीन के लिए हाथ फैलाने पड़ते हैं? यह किस तरह का हिंदू राष्ट्र है जहाँ शिक्षा का अधिकार अधिनियम में केवल हिंदुओं के स्कूलों के साथ भेदभाव किया जाता है और उन्हें ताला लगाने को मजबूर कर दिया जाता है? यह किस तरह का हिंदू राष्ट्र है जहां औरंगज़ेब और टीपू जैसे बर्बर शासकों को लेकर सरकारी खर्चे पर प्रकाशन किए जाते हैं, सड़कों के नाम रखे जाते हैं और त्योहारों का आयोजन होता है? यह किस तरह का हिंदू राष्ट्र है जहाँ एक ऐसा कानून बिल्कुल बन ही जाने ही वाला था जिसमें केवल हिंदुओं को, जबकि वे अल्पसंख्यक थे, सांप्रदायिक दंगों के लिए दोषी ठहराया जाता जैसा कि कश्मीर में देखा गया? यह किस तरह का हिंदू राष्ट्र है जहाँ सबरीमाला प्रकरण में अदालतों के फैसले और विधायी कानून केवल हिंदुओं के धर्माचारों में सुधार के लिए किए जाएँ लेकिन दूसरे धर्म को छुआ तक न जाए और अगर ऐसा कोई करे भी, तो वहाँ शाहबानो के मामले की तरह फैसले को पलट दिया जाए? यह किस तरह का हिंदू राष्ट्र है जहाँ हिंदू पूजा स्थल अधिनियम आज भी हिंदुओं को उनके प्रति हुए ऐतिहासिक अन्यायों को दुरुस्त करने के उनके विधिसम्मत अधिकार पर रोक लगता है जबकि वक्फ एक्ट मुसलमानों को एक 1500 वर्ष पुराने हिंदू मंदिर को इस्लामी संपदा घोषित करने की अनियंत्रित शक्ति दे देता है, गो कि इस्लाम अपने आप में महज 1300 वर्ष पुराना है? अगर एक हिंदू राष्ट्र में हिंदू को इस तरह नवाजा जा रहा हो तो इससे अच्छा है कि वह एक मुस्लिम राष्ट्र में रहे क्योंकि वहाँ कम से कम बराबरी का ढोंग तो नहीं होगा, एक काफिर को वही मिलेगा जो उसे मिलना चाहिए। अपनी इस कड़वे बयान में आनंद रंगनाथन आजादी के बाद से हिंदुओं के साथ धोखेबाज़ी करने वाली ग्लानि भरी झूठी कहानी और आत्मदोषानुभूति पर एक निर्णायक प्रहार करते हुए उसे चकनाचूर कर देते हैं। यहाँ कोई स्वांग या राजनीतिक शुचिता नहीं है, अगर है तो केवल राज्य प्रायोजित नस्ल भेद की वह ठोस सच्चाई जिसके साथ हिंदू जी रहे हैं।

1 3 4